विनम्र निवेदन

635

विनम्र निवेदन

विनम्र निवेदन

विनम्र निवेदन 

इस संसार में बहुत से पाकशास्त्र विशेषज्ञ हैं जिन्होंने अनेकों पुस्तकें लिखी हैं। टीवी में भी अनेक व्यंजनों को बनाने की विधियों का सुन्दर विवेचन आता है। आप सभी भी भारतीय पाक कला की विशेषज्ञाएं हैं। परन्तु जब उम्र के बढ़ते जाने के साथ या अनियमित जीवन शैली के कारण हम बीमार रहने लगते हैं और डाइबिटीज, ब्लड प्रेशर अथवा ह्रदय रोग जैसी समस्या से हमें दो चार होना पड़ता है तब यह जीवन भार स्वरुप लगने लगता है। भोजन बेस्वाद लगने लगता है। डाक्टर के बताये कम नमक, कम घी तेल, आलू, चावल, चीनी रहित भोजन की कल्पना ही विष के समान लगती है। 
जब मुझे स्वयं इस समस्या से दो चार होना पड़ा तब मैंने इस विषय पर विचार कर घी, तेल, चीनी और कम मसाले का भोजन बनाने की चेष्टा की। भोजन में विविधता आते ही इसकी नीरसता समाप्त हो गयी। ऐसे में मेरा मन हुआ कि यदि मुझ जैसे कुछ और लोगों को इससे लाभ मिल सके तो मेरा प्रयास सफल होगा। 

अपने जैसे भाई-बहनों की सेवा में विनम्र समर्पण 

डा कुसुम लता अग्रवाल 

About Author

img

Dr Kusum Lata Agarwal

Leave a comment